वृश्चिक राशि (Scorpio Zodiac Sign)

वृश्चिक राशि (Scorpio Zodiac Sign)

वैदिक ज्योतिष(Vedic Astrology) के अनुसार कुंडली(Kundli) के पहले घर में वृश्चिक(Scorpio) राशि(Rashi) हो या कुंडली में चन्द्रमा(Moon) वृश्चिक(Scorpio) राशि(Rashi) में हो तो ऐसा जातक मंगल(Mars) ग्रह से प्रभावित होता है |राशि(Rashi) चक्र में आठवीं राशि(Rashi) वृश्चिक(Scorpio) होती है| स्थिर स्वाभाव और जल तत्व की इस राशि(Rashi) का स्वामी मंगल ग्रह(Grah) होता है | यूँ तो मंगल(Mars) ग्रह(Grah) मेष राशि(Rashi) का भी स्वामी होता है लेकिन दोनों राशियों के गुणों में जमीन आसमान का अंतर होता है |

कुंडली(Kundli) में चन्द्रमा(Moon) वृश्चिक(Scorpio) राशि(Rashi) में और मंगल(Mars) ग्रह से प्रभावित होने के कारण ऐसे लोगों का व्यक्तित्व आकर्षक होता है| ये अपनी भावनाओं को छुपाकर रखते हैं, इसलिए इन्हें समझना थोड़ा कठिन होता है। वृश्चिक लग्न के जातकों को प्रजनन अंगों से सम्बंधित रोगों से पीड़ा हो सकती है। बवासीर और अल्सर जैसे रोगों के अलावा जिगर और गुर्दे के रोग भी परेशान कर सकते है।

वैदिक ज्योतिष(Vedic Astrology) के अनुसार कुंडली(Kundli) में चन्द्रमा(Moon) वृश्चिक(Scorpio) राशि(Rashi) में हो तो ऐसे जातक शंकालु स्वाभाव के होने के साथ साथ ईर्ष्यालु भी हो जाते हैं इसीलिए इस राशि के जातक रिलेशनशिप में हमेशा कश्मकश की स्थिति में रहते हैं। हालाँकि इनका सेंस ऑफ़ ह्यूमर कमाल का होता है और अपने काम में ये एक दम कुशल होते हैं। लव रिलेशन में ये लोग जुनूनीयत से भरे होते हैं | ऐसे जातकों को या तो पूरी तरह सफलता मिलती है या आप पूरी तरह से असफल रहते हैं।

मंगल(Mars) ग्रह से प्रभावित होने के कारण ऐसे जातक स्वभाव से जिद्दी, घमंडी होते हैं और अपनी जिंदगी अपने अंदाज से जीना चाहते हैं | लुभावनी आंखों वाले ऐसे जातकों की शारीरिक बनावट काफी अच्छी होती है | ऐसे जातकों की सबसे बड़ी विशेषता गोपनीयता और गंभीरता होती है क्योकि आप किसी भी विषय की गहराइयों में उतर सकते हैं | आपके अनेक प्रेम प्रसंग हो सकते हैं |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »